17.2 C
London
Friday, May 24, 2024
spot_img

बाघ का शव मिलने से हडकंप, बाघ के शरीर पर चोट के निशान; रिपोर्ट आने पर होगा पर्दाफाश

ख़बर रफ़्तार, शांतिपुरी:  तराई पूर्वी वन प्रभाग डाली रेंज कोटखर्रा बीट दो के क्षेत्र में बाघ का शव मिलने से वन विभाग में हड़कंप मच गया। बाघ के शरीर पर चोट के निशान पाए गए हैं। वन विभाग की चौकी में ही पशु चिकित्सकों के पैनल के साथ ही वाइल्ड लाइफ व स्वयं सेवी संस्था की टीम की मौजूदगी में पोस्टमार्टम किया गया।

बाघ का बिसरा सुरक्षित रख जांच के लिए देहरादून भेजा जा रहा है। मंगलवार शाम गश्त के दौरान वन विभाग की बीट टीम को कोटखर्रा वन बीट क्षेत्र में बाघ का शव मिलने से हड़कंप मच गया। सूचना पर वन विभाग हरकत में आ गया।

एसडीओ अनिल जोशी सहित अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। बाघ के शव के निरीक्षण के दौरान शरीर पर चोट के निशान पाए गए थे। जिससे प्रथम दृष्टया अनुमान लगाया जा रहा है कि बाघ की किसी वाहन के चपेट में आने से मौत हुई होगी। हालांकि वन जीव संघर्ष की संभावना से भी इंकार नही किया जा सकता है।

वन विभाग की टीम ने रात ही शव कब्जे में ले वन चौकी में पूरे एहतियात के साथ सुरक्षित रखवा दिया गया था। बुधवार दोपहर बाद चिकित्सकों के पैनल के साथ ही नियमानुसार वाइल्ड लाइफ की टीम व स्वयं सेवी संस्था के सहयोगियों की मौजूदगी में वन विभाग की चौकी में ही बाघ के शव का पोस्टमार्टम करवाया गया।

बाघ के शरीर पर चोट के काफी निशान थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा कि वह निशान किसी वाहन के चोट के कारण हैं अथवा वन्य जीव संघर्ष के हैं। उसके बावजूद बाघ की हत्या की आशंकाओं को देखते हुए चिकित्सकों के पैनल ने बाघ का बिसरा सुरक्षित रखा है। जिसे जांच के लिए वन्य जीव संस्थान देहरादून भेजा जा रहा है।

वहीं पोस्टमार्टम के बाद बाघ का अंतिम संस्कार नियमानुसार कर दिया गया। एसडीओ अनिल जोशी ने कहा पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। हल्द्वानी मार्ग पर हाल ही में हादसे में हुई थी बाघ की मौत हल्द्वानी मार्ग पर टांडा जंगल में हाल ही में कार की चपेट में आने के बाद बाघ की मृत्यु हो गई थी।

बाघ सड़क पार करते समय तेज गति कार की चपेट में आ गया था। जिसके बाद वन विभाग ने वाहन चालक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करवाया था। दो माह के अंतराल में दो बाघ की मृत्यु ने कई तरह के सवाल खड़े कर दिए है। इसके साथ ही कुछ दिन पूर्व एक तेंदुए का भी शव वन क्षेत्र में मिला था।

ये भी पढ़ें…गोवंश के संरक्षण के लिए कठोर कानून लाएगी धामी सरकार, राज्य में हैं 27 हजार निराश्रित गोवंश

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here