8 C
London
Tuesday, April 16, 2024
spot_img

टीकाकरण के एक घंटे बाद दो माह की बच्ची की मौत, दो मासूम बेहोश; ग्रामीणों ने दो ANM को बंधक बनाया

खबर रफ़्तार, रामगढ़ चौक (लखीसराय):   लखीसराय जिले के रामगढ़ चौक प्रखंड की नंदनामा पंचायत के शाहनगर गांव में शुक्रवार को टीकाकरण के एक घंटे बाद स्थानीय निवासी सुरेंद्र यादव की पुत्री रियांशी कुमारी (दो माह) की मौत हो गई, जबकि दो बच्चे अचेत हो गए।

दोनों बच्‍चों को इलाज के लिए पहले रामगढ़ चौक पीएचसी फिर वहां से लखीसराय सदर अस्पताल भेजा गया है। घटना के बाद बच्चे को टीका देने वाली दो एएनएम को ग्रामीणों ने बंधक बना लिया। इससे गांव में कोहराम मच गया और स्वास्थ्य विभाग के प्रति लोगों में उबाल आ गया।

तीन बच्‍चों को दी वैक्‍सीन

सूचना पर रामगढ़ के प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं रामगढ़ चौक थाना पुलिस ने पहुंचकर मामले को शांत किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल लखीसराय ले गए।

जानकारी के अनुसार, टीकाकरण अभियान के तहत रामगढ़ चौक पीएचसी की एएनएम सोनी कुमारी एवं श्वेता कुमारी बच्चों को टीका देने शाहनगर पहुंची थीं।

इस दौरान डीपीटी, ओपीवी एवं पेंटावैलेंट टीका सुरेंद्र यादव की दो माह की पुत्री रियांशी कुमारी, कृष्ण यादव के छह माह के पुत्र नीतीश कुमार एवं मन्नू यादव के पांच माह का पुत्र आयन राज को दिया।

एक घंटे के अंदर तीनों बच्चों की तबीयत खराब होने लगी। सभी अचेत होने लगे। इसके बाद रियांशी कुमारी की मौत हो गई, जबकि नीतीश कुमार एवं आयन राज अचेत हो गए। घटना के बाद गांव में कोहराम मच गया और ग्रामीणों ने टीकाकरण कर रही दोनों एएनएम को बंधक बना लिया।

मौके पर पहुंचे चिकि‍त्सा अध‍िकारी

सूचना पर रामगढ़ चौक पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डाक्टर कंचन कुमार, रामगढ़ चौक के प्रखंड विकास पदाधिकारी गौतम कुमार सिन्हा, रामगढ़ चौक थाना के एसआइ सुधीर कुमार पुलिस बल के साथ शाहनगर पहुंचे।

मृतक एवं बीमार बच्चों के स्वजन को समझाया और ग्रामीणों से बात की, लेकिन वे लोग लापरवाही बरतने एवं एक्सपायरी दवा देने का आरोप लगा रहे थे। पंचायत के मुखिया पति सुनील यादव भी पहुंचे और ग्रामीणों को समझाया।

विकास पदाधिकारी और चिकित्सा पदाधिकारी ने मृतक के स्वजन को आर्थिक मदद का आश्वासन दिया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए लखीसराय सदर अस्पताल भेजा गया।

उधर, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. कंचन ने बताया कि जन्म के साथ ही बच्चे का टीकाकरण शुरू हो जाता है। उक्त तीनों बच्चों को डीपीटी, ओपीवी और पेंटावैलेंट वैक्‍सीन दी गई थी।

इसके एक घंटा तक बच्चे को सोना नहीं चाहिए। रियांशी को उसके स्वजन ने सुला दिया, जिससे ऐसी घटना घटी। शव का पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत के कारणों का पता चल सकेगा।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here