18.2 C
London
Thursday, May 23, 2024
spot_img

मजदूरों को बचाने के लिए देवी-देवताओं से भी प्रार्थना, सुरंग के बाहर बनाया गया बौखनाग देवता का मंदिर

ख़बर रफ़्तार, उत्तरकाशी : उत्तराखंड के उत्तरकाशी में चारधाम आलेवदर परियोजना की सिल्क्यारा-पोलगांव सुरंग में फंसे श्रमिकों को बाहर निकालने के रेस्क्यू अभियान दिनों-दिन चुनौतीपूर्ण बन रहा है।

शनिवार को पीएमओ के सचिव मंगेश घिल्डियाल और पीएम के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे अपनी टीम के साथ उत्तरकाशी पहुंचे और सिल्क्यारा सुरंग में रेस्क्यू की कमान अपने हाथ में ली।

बौखनाग देवता के मंदिर की स्थापना

पोलगांव बड़कोट की ओर से भी श्रमिकों को सकुशल बाहर निकालने की कामना को लेकर सुरंग के गेट के पास बौखनाग देवता का मंदिर भी स्थापित किया गया है। हॉरिजॉन्टल बोरिंग शुरू की गई है। फंसे श्रमिकों तक पहुंचने के लिए पांच सौ मीटर लंबी बोरिंग करनी होगी, लेकिन इसमें एक सप्ताह के समय लगना तय है।

प्रधानमंत्री के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे ने कहा कि सुरंग में फंसे श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकालने में चार से पांच दिन का समय लगेगा। एक साथ सभी पांच विकल्पों पर काम शुरू कर दिया गया है। इस समय केवल लक्ष्य 41 श्रमिकों की जिंदगी बचाने का है। बताया जा रहा है कि श्रमिकों के खोज बचाव में अभी तक की धीमी प्रगति से पीएमओ चिंतित है।

रेस्क्यू अभियान में शनिवार को तब कुछ तेजी दिखी जब पीएमओ से टीम पहुंची। इस टीम ने वैज्ञानिकों के साथ सिल्क्यारा सुरंग के आसपास की पहाड़ी का भी निरीक्षण। उन सभी स्थानों को देखा जहां से बोरिंग करके सुरंग के अंदर पहुंचा जा सकता है। शनिवार की शाम को वर्टिकल और होरिजेंटल बोरिंग की तैयारियों को लेकर काम भी शुरू किया गया।

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here