21.7 C
London
Monday, June 17, 2024
spot_img

पौड़ी अमित रावत डेथ केस में नपे नैनीडांडा चिकित्साधिकारी, CMO ने वापस ली जिम्मेदारी, मांगा स्पष्टीकरण

ख़बर रफ़्तार,श्रीनगरः पौड़ी जिले के विकासखंड नैनीडांडा के प्रभारी चिकित्साधिकारी को पीएचसी धुमाकोट में सेवारत डॉक्टर के दो माह से लापता होने की सूचना उच्च अधिकारियों को नहीं देना भारी पड़ गया है. मुख्य चिकित्साधिकारी पौड़ी डॉ. प्रवीण कुमार ने तत्काल प्रभाव से प्रभारी चिकित्साधिकारी का प्रभार वापस ले लिया है. साथ ही मामले में स्पष्टीकरण तलब कर जल्द संतोषजनक जवाब नहीं दिए जाने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है. उन्होंने स्वास्थ्य महानिदेशक को मामले की विस्तृत रिपोर्ट भेज दी है.

ये है पूरा मामलाः विकासखंड नैनीडांडा के देवलधर गांव निवासी गिरधर रावत का 24 वर्षीय बेटा अमित रावत कुछ दिनों पहले गांव में पूजा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गांव आया था. वह दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता था. बीते 22 मई की रात को अमित की तबीयत खराब हो गई थी. ग्रामीण चारपाई पर रखकर उसे दो किमी की चढ़ाई चढ़कर सड़क पर लाए थे. जहां से 108 के माध्यम से अमित को उपचार के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र धुमाकोट ले गए थे.

लेकिन डॉक्टर तैनात नहीं होने पर परिजन उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नैनीडांडा ले गए. यहां भी डॉक्टर ने उपचार के बाद अमित को सीएचसी रामनगर रेफर कर दिया. वहां सीटी स्कैन किए जाने के बाद डॉक्टरों ने मरीज को मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी रेफर किया. यहां भी डॉक्टरों ने न्यूरो फिजिशियन नहीं होने का हवाला देते हुए उसे दिल्ली रेफर कर दिया था. लेकिन दिल्ली जाते समय रास्ते में अमित ने दमतोड़ दिया था.

अमित के परिजनों ने डीएम और सीएमओ पौड़ी से मामले में कार्रवाई की मांग की थी. बताया जा रहा है कि पीएचसी धुमाकोट में डॉ. फरमान तैनात थे. लेकिन वह बिना बताए बीते 19 अप्रैल से अनुपस्थित चल रहे थे. प्रभारी चिकित्साधिकारी ने डॉक्टर के लापता होने की सूचना उच्च अधिकारियों को नहीं दी थी. अमित की मौत की घटना के बाद डॉक्टर के लापता होने की घटना सामने आई थी. सीएमओ पौड़ी ने मामले की जांच एसीएमओ डॉ. रमेश कुंवर को सौंपी थी. एसीएमओ डॉ. कुंवर ने जांच रिपोर्ट सीएमओ पौड़ी को सौंप दी है.

सीएमओ पौड़ी डॉ. प्रवीण कुमार ने बताया कि नैनीडांडा ब्लॉक के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉ. आशुतोष त्रिपाठी से दायित्व वापस ले लिया गया है. प्रकरण को लेकर उनका स्पष्टीकरण भी तलब किया गया है. उन्होंने बताया कि मामले की विस्तृत रिपोर्ट स्वास्थ्य महानिदेशक को भेज दी गई है. साथ ही मेडिकल कॉलेज श्रीनगर प्रशासन को दो माह से लापता डॉक्टर से वसूली की संस्तुति भेजी गई है.

ये भी पढ़ेंः- वीरभूमि का कमाल, खटीमा के जितेंद्र ने पाया मुकाम…पासआउट होने वाला हर 12वां अधिकारी उत्तराखंड से

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here