12.1 C
London
Monday, April 15, 2024
spot_img

बिजली संकट से तीन से चार घंटे तक करनी पड़ रही कटौती, हरियाणा और अरुणाचल की कंपनियों से मिली राहत

ख़बर रफ़्तार, देहरादून:  सर्दी में बिजली किल्लत से जूझ रहे यूपीसीएल को अरुणाचल व हरियाणा की कंपनियों से राहत मिली है। इनसे यूपीसीएल फरवरी तक 200 मेगावाट माहवार बिजली लेगा, यह बिजली जून से सितंबर के बीच इन कंपनियों को लौटा देगा। इस पर नियामक आयोग ने मंजूरी दे दी है।

राज्य में इस साल बर्फबारी न होने का असर बिजली आपूर्ति पर नजर आने लगा है। किल्लत के बीच कटौती बढ़ती जा रही है। कुल बिजली की मांग 4.54 करोड़ यूनिट से ऊपर जा रही है जबकि इसके सापेक्ष उपलब्धता 4.5 तक हो रही है।

इससे हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर जिलों में जहां दो से तीन घंटे की कटौती हो रही है तो लंढौरा, मंगलौर, लक्सर, बहादराबाद, ढकरानी, सेलाकुई, सहसपुर, विकासनगर, डोईवाला, कोटद्वार, ज्वालापुर, जसपुर, किच्छा, खटीमा, रामनगर, गदरपुर, बाजपुर जैसे छोटे कस्बों में भी एक से दो घंटे की कटौती की जा रही है। वहीं, रुड़की, काशीपुर में भी एक से दो घंटे की कटौती हो रही है।

बिजली किल्लत से कुछ राहत मिलेगी

इस किल्लत का मुकाबला करने के लिए यूपीसीएल लगातार कवायद कर रहा है। यूपीसीएल के निदेशक प्रोजेक्ट अजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि अरुणाचल की कंपनी एपीपीसीपीएल और हरियाणा की कंपनी तीन महीने तक माहवार 200 मेगावाट बिजली उत्तराखंड में बैंक करेंगे। उन कंपनियों के पास बिजली की उपलब्धता ज्यादा रहती है। जून से सितंबर के बीच यूपीसीएल आसानी से बिजली लौटा सकता है। लिहाजा, एपीपीसीपीएल को 104 प्रतिशत व हरियाणा को 105 प्रतिशत बिजली लौटा दी जाएगी। फिलहाल बिजली किल्लत से कुछ राहत मिलेगी।

ये भी पढ़ें…उत्तराखंड में एक साल में गिरी 3.5 प्रतिशत बेरोजगारी दर, एनएसओ रिपोर्ट में ये तथ्य भी आए सामने

वर्तमान में बिजली आपूर्ति की स्थिति

बिजली की कुल मांग : 4.54 करोड़ यूनिट

राज्य की उपलब्धता : 95 लाख यूनिट

केंद्रीय शेयर से उपलब्धता : 1.4 करोड़ यूनिट

अन्य माध्यमों से उपलब्धता : 2.12 करोड़ यूनिट

कुल उपलब्धता : 4.48 करोड़ यूनिट

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here